allexamready

ncert maths class 10 solutions,10th class physics,12th class chemistry,12th class physics,12th class english,12th class biology

Email Subscriptions

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Tuesday, 16 July 2019

ठोस किसे कहते है। (Types of concrete)

* ठोस पदार्थ किसे कहते है।
जिस वस्तु की आकृति एवं आयतन दोनो निश्चित हो उसे हम ठोस पदार्थ कहते है।
ठोस पदार्थ का गुण-ः
(i) इसका आकार तथा आयतन दोनो निश्चित होता है।
(ii) यह दवाने से नही दवता है। अर्थात असंपीड्य होता है। इसका द्रव्यणांक तथा क्वथनांक उच्च होता है।
(iii)  इसका निर्माण परत दर परत होता है।
(iv) इसे तेज धार वाले हथियार से काटने पर एक चिकनी सतह मिलती है इसमे बहाव नही होता है।
(v) यह बहुत कठोर होता है।
(vi) ठोस पदार्थ दैशिक होते है।

ठोस पदार्थ दो प्रकार के होते है।
1. क्रिस्टलीय ठोस
2. अक्रिस्टलीय ठोस


क्रिस्टलीय ठोस किसे कहते है।
वैसा ठोस पदार्थ जिसे बनाने वाले अणु, परमाणु, और आयन नियमित रूप से जुड़े होते है तथा इसका निर्माण परत दर परत होता है इसे क्रिस्टलीय ठोस कहते है।
           क्रिस्टलीय ठोस को हम रवादार ठोस और वास्तविक ठोस भी कहते है।

    क्रिस्टलीय ठोस के गुण
(i) क्रिस्टलीय ठोस दिर्घ विन्यासी होती है।
(ii) क्रिस्टलीय ठोस पदार्थ के आयतन पर ताप एवं दाब का अत्यंत न्यून प्रभाव पड़ता है।
(iii) क्रिस्टलीय ठोस पदार्थ का ज्यामितीय आकृति निश्चित होता है।
(iv) क्रिस्टलीय ठोस पदार्थ का क्वाथनांक तथा द्रव्यनांक निश्चित तथा उच्च होता है।
(v) क्रिस्टलीय ठोस का घनत्व उच्च होता है।
(vi) क्रिस्टलीय ठोस को तेज धार वाले हथियार से काटने पर वह चिकनी सतह देती है।
(vii) क्रिस्टलीय ठोस का निर्माण परत दर परत होता है।
(viii) क्रिस्टलीय ठोस बहुत कठोर होता है।
(ix) क्रिस्टलीय ठोस विषमदैशिक होता है।

विषमदैशिक किसे कहते है।
किसी ठोस पदार्थ का गुण सभी दिशाओं मे समान नही होता है तो उस गुण को विषमदैशिक कहते है।


अक्रिस्टलीय ठोस किसे कहते है।
वैसा ठोस पदार्थ जिसका ज्यामितिय आकृति निश्चत नही होती है तथा इसे बनाने वाले अव्यव नियमित रूप से व्यवस्थीत नही होती है उसे अक्रिस्टलीय ठोस कहते है।
                               अक्रिस्टलीय ठोस को हम बेरवादार ठोस और झुठा ठोस भी कहते है।

     अक्रिस्टलीय ठोस के गुण
(i) अक्रिस्टलीय ठोस लघु विन्यासी होती है।
(ii) अक्रिस्टलीय ठोस मुलायम होता है।
(iii) अक्रिस्टलीय ठोस का निर्माण परत दर परत नही होता है।
(iv) अक्रिस्टलीय ठोस को धारदार हथियारो से काटने पर वह चिकनी सतह नही देती है।
(v) अक्रिस्टलीय ठोस का दव्यनांक तथा क्वथनांक उच्च नही होता है।
(vi) अक्रिस्टलिय ठोस समदैशिक होती है।
(vii) अक्रिस्टलिय ठोस का घनत्व निम्न होता है।
(viii) अक्रिस्टलीय ठोस की ज्यामितीय आकृति निश्चित नही होता है।

समदैशिक किसे कहते है।
किसी ठोस पदार्थ का गुण सभी दिशाओ मे समान होता है तो उस गुण को समदैशिक कहते है।

ठोस कठोर और संपीड्य क्यो होता है।
ठोस पदार्थ के अणु के बीच लगने वाले बल को अंतरानविक बल कहते है यह बल बहुत मजबुत होती है जिसके कारण ठोस कठोर एवं संपीड्य होती है।

No comments:

Post a Comment

post se sambandhit comment kare